तेज और निष्पक्ष खबरों को जानने के लिए बने रहे डिस्कवरी न्यूज़ डॉट इन or discoverynews.in, covid-19 से बचाव के लिए मास्क एवं सेनेटाइजर का उपयोग करते रहे, बलिया गोलीकांड का मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह गिरफ्तार, तीन दिन बाद दबोचा गया, इंसान की त्वचा पर 9 घंटे तक जिंदा रह सकता है कोरोनावायरस, स्टडी में खुलासा, ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का चेन्नई में सफलतापूर्वक परीक्षण, LPG cylinder home delivery rule हर घर के लिए काम की बात, 1 नवंबर से बदलेगा LPG सिलेंडर डिलीवरी नियम, UPSC Marksheet: जारी हुई यूपीएससी सिविल सेवा 2019 की मार्कशीट, upsc.gov.in पर करें डाउनलोड, NEET UG Result 2020: एनटीए ने जारी किए नीट के नतीजे, ntaneet.nic.in पर करें चेक, ग्लोबल टाइम्स की फिर से गीदड़भभकी, भारत को दी ताइवान से दूर रहने की चेतावनी, नवोदय विद्यालय में आर्ट टीचर और लाइब्रेरियन सहित इन पदों पर निकली भर्ती, अप्लाई @navodaya.gov.in , झारखंड के पलामू जिले में दहेज लोभी शिक्षक ने पत्नी और दो बच्चों का गला घोंटकर शव कूएं में फेंका,
BREAKING NEWS
{"effect":"slide-h","fontstyle":"normal","autoplay":"true","timer":"5000"}

US आव्रजन विभाग ने आर्मी ऑफिसर की मां को निर्वासित कर 31 साल बाद मेक्सिको भेजा

गोमेज ने गुरुवार को खुद को निर्वासित किए जाने की तैयारी कर ली थी। मगर उनकी बेटी ने कहा था कि उसे विश्वास है कि अमेरिकी अधिकारी उन्हें देश में रुकने के लिए कुछ और रियायत दे देंगे

US आव्रजन विभाग ने आर्मी ऑफिसर की मां को निर्वासित कर 31 साल बाद मेक्सिको भेजा

US आव्रजन विभाग ने आर्मी ऑफिसर की मां को निर्वासित कर 31 साल बाद मेक्सिको भेजा

हाइलाइट्स

  • अमेरिका में एक सैन्य अधिकारी की मां को निवार्सित कर देश से निकाल दिया गया है
  • दरअसल, मां को आव्रजन कानून के तहत अमेरिका से मेक्सिको भेज दिया गया है
  • उनका बेटा जिब्रान क्रूज अमेरिकी सेना के खुफिया विभाग में सेकंड लेफ्टिनेंट है

वॉशिंगटन
संघीय अमेरिकी आव्रजन अधिकारियों ने आर्मी के एक अधिकारी की मां को 31 साल बाद निर्वासित कर मेक्सिको भेज दिया। स्थानीय मीडिया के अनुसार आर्मी के खुफिया अधिकारी सेकंड लेफ्टिनेंट (30) जिब्रान क्रूज की मां रोशियो रिबॉल्लर गोमेज (50) को इमिग्रेशन ऐड कस्टम्स इन्फोर्समेंट (आईसीए) के अधिकारियों ने सैन डिएगो से तिजुआना के मैक्सिकन सीमावर्ती शहर में भेज दिया। सैन्य अधिकारी जिब्रान अपनी मां के निर्वासन से पहले उनसे मिलने घर पहुंचे। मां के साथ उनकी यह तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है।

गोमेज ने गुरुवार को मेक्सिको जाने की तैयारी कर ली थी। मगर उनकी बेटी ने कहा था कि उसे विश्वास है कि अमेरिकी अधिकारी उन्हें देश में रुकने के लिए कुछ और रियायत दे देंगे। इसलिए उसने अपना बैग पैक नहीं किया था। क्रूज और उनकी बहन कार्ला ने गुरुवार को एक संवाददाता सम्मेलन में भी अपनी प्रतिक्रिया दी थी।

अटॉर्नी टेसा कैबरेरा ने एफे न्यूज को बताया कि कैलिफोर्निया की सीनेटर कमला हैरिस के कार्यालय ने देश में गोमेज के प्रवास को और विस्तार दिलाने के संबंध में कोशिशें की थीं, मगर वह असफल रहीं। गोमेज के तीन पोते हैं और वह एक छोटा सा व्यवसाय चलाती हैं। उन्हें आखिरकार अमेरिका छोड़कर मेक्सिको जाना ही पड़ा, क्योंकि आईसीई ने अटॉर्नी को सूचित किया कि उनके निर्वासन को फिलहाल स्थगित नहीं किया जा सकता है। गोमेज को ईल चपराल सीमा पुल के जरिए देश से बाहर निकाल दिया गया।

0 Reviews

Write a Review

admin

Read Previous

यूपी पुलिस कांस्टेबल 49000 भर्ती 2019: बाथरूम करने गई थी संगीता, वापस आई बबीता, खुल गई लड़की की पोल

Read Next

सोशल मीडिया का बढ़ता चलन बना रहा है लोगों को तनहाई का शिकार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *