तेज और निष्पक्ष खबरों को जानने के लिए बने रहे डिस्कवरी न्यूज़ डॉट इन or discoverynews.in, covid-19 से बचाव के लिए मास्क एवं सेनेटाइजर का उपयोग करते रहे, बलिया गोलीकांड का मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह गिरफ्तार, तीन दिन बाद दबोचा गया, इंसान की त्वचा पर 9 घंटे तक जिंदा रह सकता है कोरोनावायरस, स्टडी में खुलासा, ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का चेन्नई में सफलतापूर्वक परीक्षण, LPG cylinder home delivery rule हर घर के लिए काम की बात, 1 नवंबर से बदलेगा LPG सिलेंडर डिलीवरी नियम, UPSC Marksheet: जारी हुई यूपीएससी सिविल सेवा 2019 की मार्कशीट, upsc.gov.in पर करें डाउनलोड, NEET UG Result 2020: एनटीए ने जारी किए नीट के नतीजे, ntaneet.nic.in पर करें चेक, ग्लोबल टाइम्स की फिर से गीदड़भभकी, भारत को दी ताइवान से दूर रहने की चेतावनी, नवोदय विद्यालय में आर्ट टीचर और लाइब्रेरियन सहित इन पदों पर निकली भर्ती, अप्लाई @navodaya.gov.in , झारखंड के पलामू जिले में दहेज लोभी शिक्षक ने पत्नी और दो बच्चों का गला घोंटकर शव कूएं में फेंका,
BREAKING NEWS
{"effect":"slide-h","fontstyle":"normal","autoplay":"true","timer":"5000"}

tablets to students in delhi schools

दिल्ली सरकार ने राज्य के सरकारी स्कूलों के 15000 छात्रों को टैबलेट बांटने की शुरुआत कर दी है। आपके लिए यह जानना जरूरी है सरकार किस योजना के तहत दिल्ली सरकार छात्रों को टैबलेट बांट रही है और इस योजना का लाभ कौन, कैसे ले सकता है। दिल्ली सरकार के टैबलेट योजना की 5 खास बातें-

1- किन छात्रों को मिल रहे टैबलेट्स ?
दिल्ली के सरकार के पास 22 प्रतिभा विकास विद्यालय (RPVVs) हैं, इन विद्यालयों में छात्रों का एडमिशन प्रवेश परीक्षा के जरिए होता है। वहीं पांच स्कूल्स ऑफ एक्सीलेंस हैं जिनका निर्माण एक दशक में देश के टॉप स्कूल बनाने के उद्येश्य से किया गया था। इन स्कूलों के 11वीं और 12वीं के छात्रों को सरकार डिजिटल लर्निंग स्कीम के तहत टैबलेट देगी। इन छात्रों के साथ ही जो छात्र सीबीएसई के सरकारी स्कूलों में पढ़ते हैं और 10वीं में 80 फीसदी से ज्यादा नंबर लाए हैं उन्हें भी सरकार टैबलेट देगी।

2- अभी किसे मिला टैबलेट ?
दिल्ली सरकार के शिक्षा मंत्री व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया शुक्रवार को कालका जी के स्कूल ऑफ एक्सीलेंस से टैबलेट बांटने का काम शुरू कर दिया। एक योजनाबद्ध तरीके से स्कूलों में टैबलेट बांटे जाएंगे और इसके लिए सभी स्कूलों ने जरूरी प्रक्रिया पूरी कर ली है। ये टैबलेट छात्रों के लिए डिजिटल लाइब्रेरी का काम करेंगे। सरकार ने छात्रों से सुझाव भी मांगे हैं कि कैसे इन्हें और ज्यादा उपयोगी बनाया जा सकता है।

3- छात्र कैसे करेंगे इस टैबलेट का इस्तेमाल ?
कालकाजी के स्कूल ऑफ एक्सीलेंस में छात्र अब इन टैबलेट्स को यूज करने का प्लान कर रहे हैं। खुद का टैबलेट होने से अब उन्हें शेयर्ड कम्प्यूटर के इस्तेमाल से मुक्ति मिलेगी। छात्रों का मानना है कि मोबाइल स्क्रीन काफी छोटी होती है और उसमें स्पेस भी कम होता है जिससे ठीक से काम नहीं हो पाता। यहां 12वीं में पढ़ने वाली छात्रा दीपांशी ने बताया कि उन लोगों ने खुद से मॉक पेपर तैयार किया है जिसे अब आसानी से टैबलेट में यूज किया जा सकेगा।

4- स्कूलों के प्रिंसिपल क्या कहते हैं ?
RPVVs और SOEs के मुखिया इस कदम को काफी सकारात्मक बता रहे हैं। उनका कहना है कि इससे में छात्रों को पढ़ाई की सुविधा बढ़ेगी। वह आसानी से प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयारी कर सकेंगे। सीबीएसई लर्निंग मटीरियल के अलावा प्रतियोगी परीक्षाओं की सामग्री भी इसमें मिलेगी।

5- दिल्ली सरकार बांट चुकी है 60000 टैबलेट्स
दिल्ली सरकार डिजिटल लर्निंग स्कीम के तहत पिछले साल 60000 टीचर्स को टैबलेट बांट चुकी है। इसके जरिए शिक्षक क्लास की अटेंडेंस लेते हैं और शैक्षिक योजनाएं बनाने के साथ ही अन्य काम भी करते हैं।

0 Reviews

Write a Review

admin

Read Previous

सोशल मीडिया का बढ़ता चलन बना रहा है लोगों को तनहाई का शिकार

Read Next

सुबह पूरी नींद लेने के बाद भी पूरे दिन रहती है थकान! तो इसके कारण और उपचार जान लें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *