तेज और निष्पक्ष खबरों को जानने के लिए बने रहे डिस्कवरी न्यूज़ डॉट इन or discoverynews.in, covid-19 से बचाव के लिए मास्क एवं सेनेटाइजर का उपयोग करते रहे, कांग्रेस के स्थापना दिवस और राहुल की विदेश यात्रा पर सियासी घमासान, सोशल मीडिया में भी बाढ़, तीन दिवसीय यात्रा पर दक्षिण कोरिया रवाना हुए सेनाप्रमुख नरवणे, रक्षा संबंधों को बढ़ाने पर होगा जोर, मुंबई से गिरफ्तार हुए तीन बांग्लादेशी नागरिक, नकली पैन और आधार कार्ड बरामद, 2021 में दिखेंगे ग्रहण के 4 नजारे, 2 भारत में दिखाई देंगे, चीनी नागरिकों की यात्रा पर प्रतिबंध के एयरलाइंस को निर्देश देने से सरकार का इनकार, डाक टिकट पर डॉनः छोटा राजन और मुन्ना बजरंगी के डाक टिकट छाप दिए, अब जांच होगी, जलकल के महाप्रबंधक के साथ मारपीट के 5 आरोपी पुलिस गिरफ्त में, लगेगा गैंगस्टर एक्ट, ICC ने बनाई दशक की बेस्ट T-20 टीम, आगरा की पूनम यादव को मिली जगह, गिलगित बल्तिस्तान में पाकिस्तान की सेना का एक हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त, चार की मौत, राजस्थान के किसान की 3 बेटियों ने रचा इतिहास, एक साथ PhD की डिग्री हासिल कर बनाया रिकॉर्ड, यूपी बेसिक शिक्षा विभाग ने शुरू की NCERT पाठ्यक्रम लागू करने की तैयारी, टीचर्स किए जाएंगे ट्रेंड, मध्य प्रदेश पुलिस में 4000 पदों पर भर्ती के लिए फुल नोटिफिकेशन जारी, 31 दिसंबर से होंगे रजिस्ट्रेशन, GOOD NEWS! जल्द शुरू होगी यूपी में शिक्षकों की भर्ती, 31 जनवरी तक मांगे आवेदन,
BREAKING NEWS
{"effect":"slide-h","fontstyle":"normal","autoplay":"true","timer":"5000"}

                                                     ssp ghaziabad sudhir kumar singh file photo

एसएसपी गौतमबुद्ध नगर की गोपनीय रिपोर्ट की गाज आखिरकार छह आईपीएस अधिकारियों पर गिर ही गई। इनमें से एक को निलंबित कर दिया गया जबकि पांच का तबादला कर दिया गया। नए साल के पहले दिन से ही इस रिपोर्ट को लेकर शुरू हुई लड़ाई की गूंज नोएडा से लेकर लखनऊ तक रही थी।

नए साल के पहले दिन एसएसपी गौतमबुद्ध नगर वैभव कृष्ण का एक कथित वीडियो वायरल हुआ था। इस वीडियो के बाद देर शाम में एसएसपी द्वारा एक प्रेस वार्ता आयोजित कर कहा गया कि उन्होंने कुछ बड़े अधिकारियों और अन्य लोगों के खिलाफ एक गोपनीय रिपोर्ट शासन को भेजी थी। इस रिपोर्ट के चलते ही उनके खिलाफ यह साजिश रची गई है। उनकी प्रेस वार्ता के बाद यह गोपनीय रिपोर्ट वायरल हो गई थी। इस गोपनीय रिपोर्ट में पांच आईपीएस अधिकारियों अजय पाल शर्मा, सुधीर सिंह, गणेश साहा, हिमांशु कुमार और राजीव नारायण मिश्रा पर आरोप लगाए गए थे। इसके अलावा रिपोर्ट में दो पीसीएस अधिकारी गुलशन कुमार, रजनीश, पूर्व मुख्यमंत्री के ओएसडी मनोज भदौरिया, मुख्य सचिव के कार्यालय में तैनात निदेशक मीडिया दिवाकर खरे, महिला आयोग की एक सदस्या और उनके बेटे का भी नाम था। रिपोर्ट में जिलों में कप्तान की कुर्सी के रेट और उसको लेन-देन का भी उल्लेख किया गया था।

सूत्रों की मानें तो यह मामला 23 अगस्त को 4 पत्रकारों की गिरफ्तारी के साथ ही सामने आ गया था और उनके मोबाइल फोनों से मिली रिकॉर्डिंग और व्हाट्सएप चैट को रिपोर्ट में मुख्य आधार बनाया गया है।

जिस पर अक्टूबर में ही गौतमबुद्ध नगर एसएसपी की ओर से रिपोर्ट बनाकर शासन को और मुख्यालय को भेजी जा चुकी थी। यह मामला तभी से दबा हुआ था लेकिन इस गोपनीय रिपोर्ट के वायरल होते ही इसको लेकर घमासान तेज हुआ और नौ दिन में ही इसकी गाज छह आईपीएस अधिकारियों पर गिरी।

1. वैभव कृष्ण

आरोप : आईपीएस, पीसीएस अधिकारियों पर ट्रांसफर-पोस्टिंग, पद के दुरुपयोग आदि आरोपों से जुड़ी गोपनीय रिपोर्ट सार्वजनिक करना। इनसे जुड़ा अश्लील वीडियो भी वायरल हुआ था।

कार्रवाई : एसएसपी गौतमबुद्ध नगर के पद से निलंबित किया।

2. सुधीर सिंह

आरोप : अभियुक्त चंदन राय के साथ चैट, एक इंस्पेक्टर को सिहानी गेट, विजय नगर का चार्ज देने से जुड़े चैट, आरोपी को मिलने के लिए बुलाने के संबंध में चैट।

कार्रवाई : एसएसपी गाजियाबाद से हटाकर सेनानायक 15 वी वाहिनी पीएसी आगरा।

3. अजयपाल शर्मा

आरोप : नोएडा में गिरफ्तार चार आरोपियों से संबंध। मेरठ एसएसपी पद पर तैनाती के लिए सौदेबाजी। दबिश की सूचना देना। गिरफ्तार युवती के मोबाइल का डाटा डिलीट कराना।

कार्रवाई: एसएसपी रामपुर पद से हटा उन्नाव पीटीएस में एसपी बनाया।

4. राजीव एन. मिश्र

आरोप: गिरफ्तार अभियुक्त नितीश पांडेय के साथ चैट, दागी पुलिस कर्मियों के संबंध में अर्द्वशासकीय पत्र लिखवाना।

कार्रवाई : एसएसपी एसटीएफ के पद से हटाकर सेनानायक 24 वी वाहिनी पीएसी मुरादाबाद भेजा गया।

5. गणेश साहा

आरोप: अभियुक्त चंदन के साथ गाड़ियां निकलवाने और एवज में पेमेंट का चैट। अकाउंट डिटेल लेना, दावा करना कि अपने इंस्पेक्टर को भेजकर सारी बात करा लेंगे, काम शुरू कराएं।

कार्रवाई : एसपी बांदा थे, अब पुलिस अधीक्षक मानवाधिकार पर तैनाती।

6. हिमांशु कुमार

आरोप: चैट/ बिजनौर में पोस्टिंग के लिए 30 लाख, बरेली के लिए 40 लाख, आगरा के लिए 50 लाख की बात। बुलंदशहर, बागपत और शामली में पोस्टिंग के लिए चैट/वार्ता करना।

कार्रवाई : एसपी सुलतानपुर थे, 28 वी वाहिनी पीएसी इटावा।

0 Reviews

Write a Review

admin

Read Previous

गौरव चंदेल मर्डर केस : लापहवाही में SHO और 3 सब इंस्पेक्टर समेत 6 पुलिसकर्मी सस्पेंड,दबिश लगातार जारी

Read Next

हनी ट्रैप का शिकार हुए SSP के वीडियो की आई रिपोर्ट, जानें असली है या नकली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *