तेज और निष्पक्ष खबरों को जानने के लिए बने रहे डिस्कवरी न्यूज़ डॉट इन or discoverynews.in, covid-19 से बचाव के लिए मास्क एवं सेनेटाइजर का उपयोग करते रहे, कांग्रेस के स्थापना दिवस और राहुल की विदेश यात्रा पर सियासी घमासान, सोशल मीडिया में भी बाढ़, तीन दिवसीय यात्रा पर दक्षिण कोरिया रवाना हुए सेनाप्रमुख नरवणे, रक्षा संबंधों को बढ़ाने पर होगा जोर, मुंबई से गिरफ्तार हुए तीन बांग्लादेशी नागरिक, नकली पैन और आधार कार्ड बरामद, 2021 में दिखेंगे ग्रहण के 4 नजारे, 2 भारत में दिखाई देंगे, चीनी नागरिकों की यात्रा पर प्रतिबंध के एयरलाइंस को निर्देश देने से सरकार का इनकार, डाक टिकट पर डॉनः छोटा राजन और मुन्ना बजरंगी के डाक टिकट छाप दिए, अब जांच होगी, जलकल के महाप्रबंधक के साथ मारपीट के 5 आरोपी पुलिस गिरफ्त में, लगेगा गैंगस्टर एक्ट, ICC ने बनाई दशक की बेस्ट T-20 टीम, आगरा की पूनम यादव को मिली जगह, गिलगित बल्तिस्तान में पाकिस्तान की सेना का एक हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त, चार की मौत, राजस्थान के किसान की 3 बेटियों ने रचा इतिहास, एक साथ PhD की डिग्री हासिल कर बनाया रिकॉर्ड, यूपी बेसिक शिक्षा विभाग ने शुरू की NCERT पाठ्यक्रम लागू करने की तैयारी, टीचर्स किए जाएंगे ट्रेंड, मध्य प्रदेश पुलिस में 4000 पदों पर भर्ती के लिए फुल नोटिफिकेशन जारी, 31 दिसंबर से होंगे रजिस्ट्रेशन, GOOD NEWS! जल्द शुरू होगी यूपी में शिक्षकों की भर्ती, 31 जनवरी तक मांगे आवेदन,
BREAKING NEWS
{"effect":"slide-h","fontstyle":"normal","autoplay":"true","timer":"5000"}

basant panchami 2020

Basant Panchami 2020 Date: वसंत पंचमी के दिन सिद्धि और सर्वार्थसद्धि योग जैसे दो शुभ मुहूर्त का संयोग बन रहा है। इस कारण पंडितों ने इसे वाग्दान, विद्यारंभ, यज्ञोपवीत आदि संस्कारों और अन्य शुभ कार्यों के लिए श्रेष्ठ माना है। ज्योतिषविदों का मानना है कि गुरुवार को वसंत-पंचमी मनाना श्रेष्ठ और शास्त्र सम्मत होगा। मेरठ के कंकरखेड़ा के बड़ा हनुमान मंदिर के मुख्य पुजारी पंडित विनोद त्रिपाठी कहते हैं कि वसंत पंचमी इस बार विशेष रूप से श्रेष्ठ है। वर्षों बाद ग्रह और नक्षत्रों की स्थिति इस दिन को खास बना रही है। पंडित त्रिपाठी के अनुसार इस बार तीन ग्रह खुद की ही राशि में रहेंगे। मंगल वृश्चिक में, बृहस्पति धनु में और शनि मकर राशि में रहेंगे। विवाह और अन्य शुभ कार्यों के लिए ये स्थिति बहुत शुभ मानी जाती है।

वसंत पंचमी 30 को श्रेष्ठ :
इस वर्ष वसंत पंचमी को लेकर पंचाग भेद भी है। इसलिए कुछ जगहों पर ये पर्व  29 और कई जगह 30 जनवरी को मनेगा। विष्णुलोक के संस्थापक ज्योतिषविद विष्णु शर्मा और अधिकांश ज्योतिषविदों का मानना है कि उदयतिथि ही पूर्ण कालिक तिथि मानी जाती है। पंडित विष्णु शास्त्री के अनुसार, पंचमी तिथि बुधवार सुबह 10.46 से शुरू होगी, जो गुरुवार दोपहर 1.20 तक रहेगी। दोनों दिन पूर्वाह्न व्यापिनी तिथि रहेगी। ज्योतिषविद विभोर इंदुसुत के अनुसार, शास्त्रोक्त दृष्टि से वसंत पंचमी का पूजन सूर्योदय के समय प्रात:काल में ही किया जाता है, इसलिए जिस दिन पंचमी तिथि सूर्योदय के समय उपस्थित होती है, उसी दिन वसंत पंचमी का महत्व होता है। 29 जनवरी को पंचमी तिथि सूर्योदय के समय उपस्थित नहीं होगी, बल्कि मध्याह्न पौने ग्यारह बजे शुरू होगी, जबकि 30 जनवरी को सूर्योदय के समय से ही पंचमी तिथि उपस्थित रहेगी, इसलिए 30 जनवरी को वसंत-पंचमी मान्य और शास्त्र सम्मत होगा।

Happy Basant Panchami 2020: इस बार दो दिन है बसंत पंचमी, ऐसे दें अपनों को शुभकामनाएं

वसंत पचंमी 
– 10.46 बजे सुबह पंचमी तिथि बुधवार से शुरू होगी
– 01.20 बजे गुरुवार दोपहर तक रहेगी। दोनों दिन पूर्वाह्न व्यापिनी तिथि

basant panchami 2020

ये भी विशेषता
वसंत पंचमी को मुहूर्त शास्त्र के अनुसार एक स्वयंसिद्धि मुहूर्त और अनसूज साया भी माना गया है अर्थात इस दिन कोई भी शुभ मंगल कार्य करने के लिए पंचांग शुद्धि की आवश्यकता नहीं होती। ज्योतिषविदों के अनुसार, इस दिन नींव पूजन, गृह प्रवेश, वाहन खरीदना, व्यापार आरम्भ करना, सगाई और विवाह आदि मंगल कार्य किए जा सकते हैं।

इसलिए मनाई जाती है वसंत पंचमी
भारतीय गणना के अनुसार वर्ष भर में पड़ने वाली छह ऋतुओं (वसंत, ग्रीष्म, वर्षा, शरद, हेमंत, शिशिर) में वसंत को ऋतुराज अर्थात सभी ऋतुओं का राजा माना गया है। पंचमी से वसंत ऋतु का आगमन हो जाता है, इसलिए यह ऋतु परिवर्तन का दिन भी है। इस दिन से प्राकृतिक सौन्दर्य निखरना शुरू हो जाता है। वसंत पंचमी को विशेष रूप से सरस्वती जयंती के रूप में मनाया जाता है।

बसंत पचंमी कथा ( Basant Panchami Katha )
पौराणिक कथाओं के अनुसार, सृष्टि के रचनाकार भगवान ब्रह्मा ने जब संसार को बनाया तो पेड़-पौधों और जीव जन्तुओं सबकुछ दिख रहा था, लेकिन उन्हें किसी चीज की कमी महसूस हो रही थी। इस कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने कमंडल से जल निकालकर छिड़का तो सुंदर स्त्री के रूप में एक देवी प्रकट हुईं। उनके एक हाथ में वीणा और दूसरे हाथ में पुस्तक थी। तीसरे में माला और चौथा हाथ वर मुद्रा में था। यह देवी थीं मां सरस्वती। मां सरस्वती ने जब वीणा बजाया तो संस्सार की हर चीज में स्वर आ गया। इसी से उनका नाम पड़ा देवी सरस्वती। यह दिन था बसंत पंचमी का। तब से देव लोक और मृत्युलोक में मां सरस्वती की पूजा होने लगी।

बसंत पचंमी तिथि – ( Basant Panchami muhurat 2020 )

बसंत पचंमी प्रारंभ – सुबह 10:45 बजे 29 जनवरी, 2020
बसंत पचंमी समाप्त – दोपहर 01:19 बजे 30 जनवरी, 2020

बसंत पचंमी पूजा मुहूर्त-
29 जनवरी 2020 को 10:45 AM से 12:52 PM तक

saraswati puja

सरस्वती पूजा मंत्र -1 ( Saraswati Pooja Mantra ) 
या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता।
या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना॥
या ब्रह्माच्युत शंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता।
सा माम् पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा॥1॥

शुक्लाम् ब्रह्मविचार सार परमाम् आद्यां जगद्व्यापिनीम्।
वीणा-पुस्तक-धारिणीमभयदां जाड्यान्धकारापहाम्‌॥
हस्ते स्फटिकमालिकाम् विदधतीम् पद्मासने संस्थिताम्‌।
वन्दे ताम् परमेश्वरीम् भगवतीम् बुद्धिप्रदाम् शारदाम्‌॥2॥

सरस्वती पूजा मंत्र -2 ( Saraswati Mantra ) 
सरस्वती नमस्तुभ्यं वरदे कामरूपिणी, विद्यारम्भं करिष्यामि सिद्धिर्भवतु में सदा।

0 Reviews

Write a Review

admin

Read Previous

नोएडा के गौरव चंदेल हत्याकांड में मिर्ची गैंग के सरगना की पत्नी समेत दो गिरफ्तार

Read Next

INDvsNZ: जब रोहित ने शमी से कहा- ‘भाई आज तो बिरयानी बनती है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *