तेज और निष्पक्ष खबरों को जानने के लिए बने रहे डिस्कवरी न्यूज़ डॉट इन or discoverynews.in, covid-19 से बचाव के लिए मास्क एवं सेनेटाइजर का उपयोग करते रहे, कांग्रेस के स्थापना दिवस और राहुल की विदेश यात्रा पर सियासी घमासान, सोशल मीडिया में भी बाढ़, तीन दिवसीय यात्रा पर दक्षिण कोरिया रवाना हुए सेनाप्रमुख नरवणे, रक्षा संबंधों को बढ़ाने पर होगा जोर, मुंबई से गिरफ्तार हुए तीन बांग्लादेशी नागरिक, नकली पैन और आधार कार्ड बरामद, 2021 में दिखेंगे ग्रहण के 4 नजारे, 2 भारत में दिखाई देंगे, चीनी नागरिकों की यात्रा पर प्रतिबंध के एयरलाइंस को निर्देश देने से सरकार का इनकार, डाक टिकट पर डॉनः छोटा राजन और मुन्ना बजरंगी के डाक टिकट छाप दिए, अब जांच होगी, जलकल के महाप्रबंधक के साथ मारपीट के 5 आरोपी पुलिस गिरफ्त में, लगेगा गैंगस्टर एक्ट, ICC ने बनाई दशक की बेस्ट T-20 टीम, आगरा की पूनम यादव को मिली जगह, गिलगित बल्तिस्तान में पाकिस्तान की सेना का एक हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त, चार की मौत, राजस्थान के किसान की 3 बेटियों ने रचा इतिहास, एक साथ PhD की डिग्री हासिल कर बनाया रिकॉर्ड, यूपी बेसिक शिक्षा विभाग ने शुरू की NCERT पाठ्यक्रम लागू करने की तैयारी, टीचर्स किए जाएंगे ट्रेंड, मध्य प्रदेश पुलिस में 4000 पदों पर भर्ती के लिए फुल नोटिफिकेशन जारी, 31 दिसंबर से होंगे रजिस्ट्रेशन, GOOD NEWS! जल्द शुरू होगी यूपी में शिक्षकों की भर्ती, 31 जनवरी तक मांगे आवेदन,
BREAKING NEWS
{"effect":"slide-h","fontstyle":"normal","autoplay":"true","timer":"5000"}

discoverynews.in
 
This is the only miraculous hill in the world, it is known that there is a boy or girl in the womb. - Weird Stories in Hindi

यह बात हम सब जानते हैं कि लोग गर्भ में पल रहे शिशु का लिंग पता करने के लिए सोनोग्राफी का सहारा लेते हैं। हालांकि कन्या भ्रूण हत्या के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने इस पर प्रतिबंध भी लगा दिया है। लेकिन झारखंड के लोहरदगा में एक गांव के लोग लिंग का पता करने के लिए एक ऐसा तरीका इस्तेमाल करते हैं जिसे सुनकर आप भी हैरान हो जाएंगे।
दरअसल, झारखंड के लोहरदगा स्थित खुखरा गांव में एक ऐसी पहाड़ी भी है जो गर्भ में पल रहे नवजात लडक़ा है या लडक़ी इस बारे में बता देती है। जी हां, आपको शायद यह बात अजीब लगे लेकिन ये सच है।
दरअसल, यहां के लोगों का कहना है कि, एक पैसा खर्च किए बिना हम यह पता कर सकते हैं। यह परंपरा यहां चार सौ साल पहले नागवंशी राजाओं के शासन काल से अबतक चल रही है। लोगों के अनुसार ये पर्वत बीते 400 सालों से लोगों को उनके भविष्य के संबंध में जानकारी दे रहा है। गांव के लोगों में इस पर्वत के प्रति अटूट श्रृद्धा है।

0 Reviews

Write a Review

admin

Read Previous

LOCKDOWN : युवक ने हेल्पनलाइन पर मांगे समोसे, समोसे तो मिले और साथ…

Read Next

कुरुक्षेत्र में ही क्यों हुआ महाभारत का भीषण युद्ध, श्रीकृष्ण ने इस कारण किया था इस जगह का चुनाव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *