तेज और निष्पक्ष खबरों को जानने के लिए बने रहे डिस्कवरी न्यूज़ डॉट इन or discoverynews.in, covid-19 से बचाव के लिए मास्क एवं सेनेटाइजर का उपयोग करते रहे, महामारी में वीज़ा नियमों में ढील : विदेश में बसे भारतीय, विदेशी नागरिक भारत आ सकते हैं, लेकिन टूरिस्ट वीज़ा पर नहीं, बिहार चुनाव : BJP ने किया 19 लाख नौकरियों, हर बिहारवासी को फ्री कोरोना वैक्सीन का वादा, योगी आदित्यनाथ के बयान पर ओवैसी का पलटवार- 24 घंटों में साबित करें कि आप सच्चे योगी हैं, H-1B स्पेशलिटी वीजा पर US विदेश विभाग का नया प्रस्ताव- सैकड़ों भारतीय हो सकते हैं प्रभावित, उद्धव सरकार का बड़ा फैसला, महाराष्ट्र में बिना इजाजत CBI की 'नो एंट्री', लेह में गलत लोकेशन दिखाने पर भारत सरकार ने जताई आपत्ति, Twitter के सीईओ को लिखी चिट्ठी, ताइवान के विदेश मंत्री बोले- हमारे निवेशकों ने भारत में पैदा किए 65000 रोजगार, देश में कोरोना के कुल मामले 77 लाख के पार, 24 घंटे में दर्ज हुए 55,839 केस, दुश्मन की नींद उड़ाएगी 'नाग' एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल, पोखरण में सफल परीक्षण, NASA's Osiris-Rex : ऐस्टरॉइड पर उतरा NASA का स्पेसक्राफ्ट, 2023 में पृथ्वी पर लौटेगा, दिल्ली दंगे से जुड़े 3 मामलों में ताहिर हुसैन को झटका, कोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका , स्मार्ट LED TV पर बंपर छूट, Amazon पर मिल रहा 50 परसेंट तक डिस्काउंट,
BREAKING NEWS
{"effect":"slide-h","fontstyle":"normal","autoplay":"true","timer":"5000"}

  धीरज कुमार दीक्षित/ नई दिल्ली 

     (एडिटर इन चीफ)

बढ़ते आकड़े बता रहे है आने वाले समय में देश में सभी होंगे कोरोना संक्रमित,बचेंगे वही जिनका होगा वाइट ब्लड सेल्स मजबूत,गौर करने की बात यह है की कोरोना से जिनकी जिनकी मौत हुयी है ऐसा नहीं की केवल कोरोना ने ही उनकी जान ली है उनके साथ उनकी और भी मेडिकल हिस्ट्री रही है इस वायरस से मरने वालों की औसत उम्र 73 साल है । मृतकों में सबसे उम्रदराज शख्स 89 साल का था जबकि सबसे कम उम्र के लिहाज से 48 साल के व्यक्ति की मौत हुयी।

समय आ गया है अब एकदम अलर्ट होकर चलने का लेकिन करे भी तो करे क्या, कितना बचे कहाँ से बचे किन लोगो से बचे और यदि हम  हम सही है लेकिन सामने वाला संक्रमित है तब ऐसे मामलो में खतरा और बढ़ जाता है इस प्रकार का प्रश्न लोगो के जहन में उठाना स्वाभाविक है  और ८ जून से अगला अनलॉक फेज खुलने जा रहा है लोगो की मूवमेंट अब धीरे धीरे पटरी पर उतरने को तैयार हो रही है आकड़े लगातर बढ़ते नजर आ रहे है सरकार के इतना समझाने के बावजूद भी लोग समझने को तैयार नहीं, तो इतना समझ के रखिए वो दिन ज्यादा दूर नहीं जब आने वाले दिनों में देश का हर व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव हो सकता है ,समाज का हर वो तबका जो कोरोना महामारी से बचने के तरीको को हलके में ले रहे है  समझ लीजिये वे लोग स्वस्थ देश के भविष्य को खतरे में डालने का जोखिम लगातार उठा रहे है आइये एक नजर डालते है भयावय स्थिति होने पर क्या होगी भारत की स्थिति………………..

विशेषज्ञों के मुताबिक, भारत में कोरोना के खतरे को देखते हुए मौजूदा मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर काफी कम है।

भारत के कुल २९ राज्यों में मेडिकल कॉलेजेस ,सरकारी, सेना, रेलवे और बड़े प्राइवेट हॉस्पिटलों की कुल संख्या 32 हज़ार है और इनमे कुल बेड की संख्या टोटल चार लाख के करीब है और यदि प्राइवेट हॉस्पिटल की संख्या पर नजर डाले तब उनकी संख्या ७० हज़ार के पार है इसमें क्लीनिक, डायग्नोस्टिक सेंटर, कम्युनिटी सेंटर भी शामिल है ऐसे में कुल बेड की संख्या करीब १० लाख है ये आकड़े नेशनल हेल्थ प्रोफाइल 2019  के पर आधारित है और भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या काफी तेजी से बढ़ रही है। आबादी के लिहाज से देखा जाए तो भारत में करीब 1700 लोगों पर एक बेड है।अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों की टीम कोव-इंड-19 का दावा है कि यही रफ्तार रही तो अगस्त के मध्य तक 1 लाख से 13 लाख तक संक्रमितों की संख्या पहुंच सकती है। अब आईसीयू और वेंटिलेटर की स्थिति पर भी नजर डालते है तो उनकी भी संख्या बहुत कम है इंडियन सोसाइटी ऑफ क्रिटिकल केयर के मुताबिक, देश भर में तकरीबन 70 हजार आईसीयू बेड हैं। जबकि 40 हजार वेंटिलेटर मौजूद है। इसमें भी महज 10 प्रतिशत ही खाली हैं। ऐसी स्थिति से निपटने लिए भारत में मौजूदा मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर और मेडिकल उपकरण नाकाफी है।

अब नजर डालते है डॉक्टरों की संख्या पर—

डॉक्टरों की संख्या पर नजर डाली जाए तो यह भी जरूरत की अपेक्षा बहुत कम है। नेशनल हेल्थ प्रोफाइल के मुताबिक देश भर में 2018 तक साढ़े 11 लाख एलोपैथिक डॉक्टर उपलब्ध हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन कहता है कि हर 1 हजार मरीज पर 1 डॉक्टर का होना चाहिए। 135 करोड़ की भारत की जनसंख्या में डॉक्टरों की संख्या बेहद कम है और डब्ल्यूएचओ के नियम के मुताबिक़ तो बिलकुल भी नहीं है।

0 Reviews

Write a Review

admin

Read Previous

भूतो के बारे में ये बात जानना आप के लिए जरुरी है इन हकीकतों को जानने के बाद आप अपने मन से दूर कर सकेंगे भूतो से भय

Read Next

मोदी राज में भारतीय सेना की क्या है जमीनीं हकीकत-जरूर जाने, की रिपोर्ट के मुताबिक युद्ध होने पर १० दिन से ज्यादा का नहीं गोला बारूद इंडियन आर्मी के पास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *