तेज और निष्पक्ष खबरों को जानने के लिए बने रहे डिस्कवरी न्यूज़ डॉट इन or discoverynews.in, covid-19 से बचाव के लिए मास्क एवं सेनेटाइजर का उपयोग करते रहे, कांग्रेस के स्थापना दिवस और राहुल की विदेश यात्रा पर सियासी घमासान, सोशल मीडिया में भी बाढ़, तीन दिवसीय यात्रा पर दक्षिण कोरिया रवाना हुए सेनाप्रमुख नरवणे, रक्षा संबंधों को बढ़ाने पर होगा जोर, मुंबई से गिरफ्तार हुए तीन बांग्लादेशी नागरिक, नकली पैन और आधार कार्ड बरामद, 2021 में दिखेंगे ग्रहण के 4 नजारे, 2 भारत में दिखाई देंगे, चीनी नागरिकों की यात्रा पर प्रतिबंध के एयरलाइंस को निर्देश देने से सरकार का इनकार, डाक टिकट पर डॉनः छोटा राजन और मुन्ना बजरंगी के डाक टिकट छाप दिए, अब जांच होगी, जलकल के महाप्रबंधक के साथ मारपीट के 5 आरोपी पुलिस गिरफ्त में, लगेगा गैंगस्टर एक्ट, ICC ने बनाई दशक की बेस्ट T-20 टीम, आगरा की पूनम यादव को मिली जगह, गिलगित बल्तिस्तान में पाकिस्तान की सेना का एक हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त, चार की मौत, राजस्थान के किसान की 3 बेटियों ने रचा इतिहास, एक साथ PhD की डिग्री हासिल कर बनाया रिकॉर्ड, यूपी बेसिक शिक्षा विभाग ने शुरू की NCERT पाठ्यक्रम लागू करने की तैयारी, टीचर्स किए जाएंगे ट्रेंड, मध्य प्रदेश पुलिस में 4000 पदों पर भर्ती के लिए फुल नोटिफिकेशन जारी, 31 दिसंबर से होंगे रजिस्ट्रेशन, GOOD NEWS! जल्द शुरू होगी यूपी में शिक्षकों की भर्ती, 31 जनवरी तक मांगे आवेदन,
BREAKING NEWS
{"effect":"slide-h","fontstyle":"normal","autoplay":"true","timer":"5000"}

कानपुर शूटआउट की कहानी, जेसीबी ड्राइवर की जुबानी :विकास दुबे की छत पर बैठे थे 20-25 असलहाधारी, 20 मिनट फायरिंग के बाद गैंगस्टर के ‘गनकट’ कहते ही फरार हुए थे बदमाश

Vishakha Sharma/New Delhi

पुलिस की गिरफ्त में आरोपी जेसीबी ड्राइवर राहुल पाल। उसने बताया कि उस वक्त मैं बहुत घबराया हुआ था। जैसे ही फायरिंग बंद हुई, मैं वहां से कूदकर भाग गया।
  • दो जुलाई की रात कानपुर के बिकरु गांव में गैंगस्टर विकास दुबे ने सीओ समेत आठ पुलिसवालों की हत्या कर दी थी
  • 10 जुलाई की सुबह यूपी एसटीएफ ने विकास दुबे का एनकाउंटर किया, घटना के 15वें दिन जेसीबी ड्राइवर राहुल गिरफ्तार
  • उसने बताया- मैंने देखा था विकास दुबे की छत से खूनी मंजर, 20-25 असलहाधारी ताबड़तोड़ फायरिंग कर रहे थे

उसने बताया कि विकास दुबे की छत पर 20-25 असलहाधारी बैठे थे, जो पुलिस पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर रहे थे। जब कई पुलिसकर्मी गोली लगने से ढेर हो गए तो दुबे ने चिल्लाकर ‘गनकट’ कहा था। इसके बाद सन्नाटा पसर गया और बदमाश अपनी पोजिशन छोड़कर फरार हो गए थे। पुलिस राहुल से पूछताछ कर रही है।

कानपुर पुलिस ने उसी जेसीबी से विकास दुबे का घर ढहाया था, जिससे उसने पुलिस का रास्ता रोका था।

विकास दुबे के मामा पांडेय ने जेसीबी लेकर चलने को कहा था
जेसीबी ड्राइवर राहुल पाल ने बताया, “दो जुलाई को मैं खेत पर काम कर रहा था। मेरे पास विकास दुबे का मामा प्रेम प्रकाश पांडेय आया था। उसने कहा कि जेसीबी लेकर चलो। विकास भैया ने बुलाया है। अर्जेंट काम है। जल्दी गाड़ी ले चलो। जब मैं बिकरू गांव पहुंचा तो देखा कि वहां पर काफी लोग खड़े थे।

जहां पर मैं पहले जेसीबी खड़ी करता था वहीं पर साइड खड़ी करने लगा। इस विकास दुबे ने कहा कि जेसीबी रास्ते में लगा दो। मैंने कहा कि रास्ता जाम हो जाएगा, इस पर विकास दुबे मुझसे कहने लगे कि जितना कहता हूं, उतना सुन ज्यादा बकवास करने का टाइम नहीं है।”

विकास की छत पर बैठे थे 20 से 25 असलहाधारी
राहुल ने बताया, “मैंने गाड़ी को रास्ते में लगा दिया और नीचे उतरने लगा तो विकास दुबे ने गाड़ी में सोने के लिए कहा। फिर उसने वहां मौजूद धीरू नाम के शख्स से कहा कि इसे ले जाकर छत पर बंद कर दो। मुझे विकास दुबे की छत पर चढ़ा दिया गया। जीने से लगी खिड़की पर कुंडी लगा दी गई थी।

जब छत पर पहुंचा तो देखा कि 20 से 25 लोग बैठे हुए थे और सभी के हाथों में असलहे थे। मैं उसमें विकास दुबे, धीरू, अमर दुबे, अतुल दुबे, प्रभात मिश्रा, प्रेम प्रकाश, सूबेदार को मैं पहचानता था। इसके अलावा नए चेहरे थे, उनकों मैं नहीं पहचानता था।”

छत की छज्जे पर लेटकर बचाई थी जान- राहुल पाल
राहुल ने बताया, “मैं बहुत घबराया हुआ था, कुछ देर बाद वहां पर फायरिंग होने लगी। छत किनारे एक छज्जा था, मैं वहीं लेट गया। बहुत जबरदस्त फायरिंग हो रही थी। मुझे बाद में पता लगा कि पुलिस वालों पर फायरिंग हो रही थी। छत से विकास के आदमी गोली चला रहे थे। लगभग 15 से 20 मिनट फायरिंग होने के बाद विकास दुबे की अवाज आई ‘गनकट’ इसके बाद पूरा माहौल शांत हो गया था। थोड़ी देर मैंने देखा कि टार्च ही टार्च जल रही थी। किसी तरह से मैं वहां से कूद कर भाग गया।”

विकास दुबे। पुलिस ने इसका 10 जुलाई की सुबह एनकाउंटर कर दिया था।

आठ पुलिसकर्मियों की हुई थी हत्या

बिकरु गांव चौबेपुर थाना क्षेत्र में है। दो जुलाई को बिकरु गांव में चौबेपुर के अलावा शिवराजपुर और बिठूर थाने की फोर्स लेकर सीओ बिल्हौर देवेंद्र मिश्र विकास दुबे की गिरफ्तारी के लिए दबिश देने पहुंचे थे। लेकिन, विकास दुबे को दबिश की भनक पहले ही लग गई थी।

टीम के पहुंचते ही गैंगस्टर विकास दुबे और उसके साथियों ने हमला कर दिया था, जिसमें सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की जान गई थी। जबकि, छह पुलिसकर्मी घायल हुए थे। अब इस मामले में 11 आरोपी फरार हैं। जबकि, विकास दुबे समेत छह आरोपियों का एनकाउंटर हो चुका है।

SOURCE-DAINIK BHASKAR

 

 

0 Reviews

Write a Review

admin

Read Previous

गिरफ्तार विकास दुबे को एमपी पुलिस से कस्टडी में लेने के बाद अब खिसियाई यूपी पुलिस का अब अगला एक्शन प्लान ये होगा…………..

Read Next

ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन पर बड़ा अपडेट:भारतीय कंपनी बना रही इसके 40 करोड़ डोज, करीब 1000 रुपए की कीमत में 2020 के अंत तक मिलने लगेगी |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *