तेज और निष्पक्ष खबरों को जानने के लिए बने रहे डिस्कवरी न्यूज़ डॉट इन or discoverynews.in, covid-19 से बचाव के लिए मास्क एवं सेनेटाइजर का उपयोग करते रहे, महामारी में वीज़ा नियमों में ढील : विदेश में बसे भारतीय, विदेशी नागरिक भारत आ सकते हैं, लेकिन टूरिस्ट वीज़ा पर नहीं, बिहार चुनाव : BJP ने किया 19 लाख नौकरियों, हर बिहारवासी को फ्री कोरोना वैक्सीन का वादा, योगी आदित्यनाथ के बयान पर ओवैसी का पलटवार- 24 घंटों में साबित करें कि आप सच्चे योगी हैं, H-1B स्पेशलिटी वीजा पर US विदेश विभाग का नया प्रस्ताव- सैकड़ों भारतीय हो सकते हैं प्रभावित, उद्धव सरकार का बड़ा फैसला, महाराष्ट्र में बिना इजाजत CBI की 'नो एंट्री', लेह में गलत लोकेशन दिखाने पर भारत सरकार ने जताई आपत्ति, Twitter के सीईओ को लिखी चिट्ठी, ताइवान के विदेश मंत्री बोले- हमारे निवेशकों ने भारत में पैदा किए 65000 रोजगार, देश में कोरोना के कुल मामले 77 लाख के पार, 24 घंटे में दर्ज हुए 55,839 केस, दुश्मन की नींद उड़ाएगी 'नाग' एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल, पोखरण में सफल परीक्षण, NASA's Osiris-Rex : ऐस्टरॉइड पर उतरा NASA का स्पेसक्राफ्ट, 2023 में पृथ्वी पर लौटेगा, दिल्ली दंगे से जुड़े 3 मामलों में ताहिर हुसैन को झटका, कोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका , स्मार्ट LED TV पर बंपर छूट, Amazon पर मिल रहा 50 परसेंट तक डिस्काउंट,
BREAKING NEWS
{"effect":"slide-h","fontstyle":"normal","autoplay":"true","timer":"5000"}

विभागीय अधिकारियों और बिल्डरों के साठगाँठ से बनकर खड़ा हो गया मौत का नया कब्रिस्तान

ब्यूरो रिपोर्ट नई दिल्ली 

ग़ाज़ियाबाद में शाहबेरी में १८ जुलाई २०१८ में बिल्डिंग गिरने की घटना लोग भूले भी नहीं थे कि नोएडा सेक्टर 11 में निर्माणाधीन बिल्डिंग गिरने के बाद पूरे मामले ने जोर पकड़ लिया, प्रशासन ने पूरी घटना को बहुत गंभीरता से ले लिया इस पूरे प्रकरण में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संज्ञान लेते हुए राहत और बचाव के निर्देश दिए थे लगातार हो रही घटना को फोकस में रखते हुए डिस्कवरी न्यूज़ ने अपने इस अवैध निर्माण मुहीम में पाया की शाहबेरी घटना के तर्ज़ पर एक और मौत का नया कब्रिस्तान खड़ा कर दिया गया है जनहित आवास योजना ” छपरौला नाम के इस प्रोजेक्ट में सूत्रों ने दावा किया है की बिल्डिंग निर्माण में सारे मानकों की घज्जिया उड़ा कर रख दी गयी है सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस पूरे प्रोजेक्ट में कही से कुछ भी सही नहीं है लेकिन सबसे बड़ा प्रश्न ये खड़ा होता है प्रशासन के नाक के नीचे इतना बड़ा प्रोजेक्ट खड़ा हो गया और आला अफसरों को इसके नींव की गहराई तक पता ही नहीं चली ,सूत्रों का कहना है की रेरा में जो बिल्डिंग मैप प्रदान की गयी है वो नक्शा किसी भी अथॉरिटी से पास नहीं है साथ ही साथ NGT एवं फायर डिपार्टमेंट से प्रोजेक्ट ने कोई NOC  नहीं  ली गई है इससे साफ जाहिर है बिना ऊपरी लोगो के मिलीभगत से इतना बड़ा प्रोजेक्ट खड़ा ही नहीं हो सकता | भू माफिया अवैध तरीके से बिल्डिंग खड़ी करके गरीब परिवारों की जीवन भर की कमाई ” मोदी जी का सपना हर व्यक्ति का घर हो अपना ” के तर्ज़ पर धोखे से लगवा देते है

 

         

और प्रशासन की नींद टूटती है बिल्डिंग गिरने के बाद |गरीब वर्गों को बिल्डर गुमराह करने के लिए अवैध मानकों के तहत बने बिल्डिंग प्रोजेक्ट नामकरण भी ऐसे करते है जैसे कोई सरकारी योजना हो जब इसके तह की गहराई नापी जाती है तब मालूम चलता है की इसका सरकारी योजना से कोई लेना देना नहीं है

0 Reviews

Write a Review

admin

Read Previous

राम मंदिर भूमिपूजन के बाद बोले PM मोदी- अस्तित्व मिटाने की हर कोशिश हुई लेकिन राम हमारे मन में बसे हैं

Read Next

कोरोना देश में LIVE:84 साल के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की रिपोर्ट पॉजिटिव, बोले- जो लोग भी मेरे संपर्क में आए, वे टेस्ट कराएं और खुद को आइसोलेट कर लें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *